Monday, June 17, 2024

/

एमईएस के सम्मेलन को अनुमति दी जाए- दीपक केसरकर

 belgaum

महाराष्ट्र के गृह मंत्री दीपक केसरकर ने कहा है कि बेलगाम में होने वाले शीतकालीन सत्र के दौरान कर्नाटक-महाराष्ट्र सीमावर्ती क्षेत्रों में रह रहे मराठी समर्थक लोगों को ‘महामेलावा’ करने के लिए अनुमति दी जानी चाहिए। उन्होंने कर्नाटक-महाराष्ट्र सीमा विवाद पर ऐसा बयान देकर एक नया विवाद खड़ा कर दिया है। दीपक केसरकर ने कहा कि ‘महामेलावा’ का आयोजन उनका लोकतांत्रिक अधिकार है।

केसरकर ने बेलगाम के सर्किट हाउस में एक निजी समारोह में भाग लेने के दौरान संवाददाताओं से बात करते हुए कहा कि महाराष्ट्र और कर्नाटक के सीमावर्ती क्षेत्र में मराठी भाषी लोग लंबे समय से अपने अधिकारों के लिए लड़ रहे हैं। बेलगाम में मराठी बोलने वालों की काफी आबादी है।

dipak-kesarkar-mla

 belgaum

केसरकर ने कहा कि कर्नाटक सरकार को सीमावर्ती क्षेत्र में मराठी भाषियों की भावनाओं को समझना चाहिए और उन्हें अधिकार प्रदान करना चाहिए। उन्होंने कहा कि सरकारी अधिकारियों को महाराष्ट्र एकीकरण समिति (एमईएस) की मांगों का जवाब देना होगा।

महाजन रिपोर्ट के मुताबिक, मराठी भाषी कुछ गांवों को महाराष्ट्र में शामिल करने की घोषणा की गई है। उन्होंने कहा, अब सुप्रीम कोर्ट सीमा मुद्दे पर सुनवाई कर रहा है और उन्हें उम्मीद है कि अदालत महाराष्ट्र के पक्ष में फैसला लेगा।

केसरकर ने कहा कि सरकार को कन्नड़ भाषा के साथ मराठी भाषा के बोर्ड भी लगाना चाहिए जहां मराठी भाषी लोग रह रहे हैं। स्थानीय निवासियों को सीमा मुद्दे के कारण पीड़ित नहीं किया जाना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.